सभी लेखों पर वापस जाओ

ज़िका वायरस- कारण, लक्षण और बचाव

कारण और ज़िका के बारे में जानकारी

ज़िका वायरस भी वही मच्छर की प्रजाति से फैलता है जिससे डेंगू भी फैलता है, यानी एडीस मच्छर। ज़िका वायरस सलाइवा और सीमेन जैसे शरीर के तरल पदार्थ के आदान-प्रदान से संक्रामक हो सकता है। यह मनुष्यों के खून में भी पाया जा सकता है।रक्तदान के 14 दिनों के भीतर अगर व्यक्ति को ज़िका वायरस संक्रमण के साथ निदान किया गया है, तो रक्त दान नहीं करना ही उचित है।

लक्षण

ज़िका वायरस के लक्षण डेंगू के समान हैं। किसी व्यक्ति को संक्रमित मच्छर से काटे जाने के बाद थोड़ा बुखार और चकत्ते दिखाई दिए जा सकते है। कॉंजक्टिवेटाइटिस, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, और थकावट कुछ अन्य लक्षण हैं जिन्हें महसूस किया जा सकता है। लक्षण आमतौर पर 2 से 7 दिनों तक चलते हैं।

बचाव

सामान्य दर्द और बुखार दवाओं से ज़िका वायरस का इलाज किया जा सकता है। जब किसी व्यक्ति को ज़िका संक्रमण से निदान किया गया है तो आराम और भरपूर पानी के सेवन की सलाह दी जाती है। चूंकि ज़िका मच्छरों से फैलती है, उनसे बचने का मतलब है ज़िका से बचना। अपने घर में काला हिट जैसे मच्छर स्प्रे को छिड़कना बेहद सहायक हो सकता है।

संबंधित उत्पादों का पता लगाएं

सही तरीके से

अपने घर को कीडों से मुक्त रखने की युक्तियां और तरीकें!

  • डेंगी
  • चिकुनगुनिया
  • मासिक रसोई की सफाई
  • कॉकरोच
  • चूहा
  • मलेरिया